भाजपा विधायक पर हत्या का आरोप लगा रही हैं जितेंद्र की मां, केस दर्ज करने की कर रहीं मांग

0
34
Newupdater.in
Newupdater.in

जितेंद्र यादव हत्याकांड
महराजगंज में जिला पंचायत सदस्य के पुत्र की हत्या से तनाव

महराजगंज में जिला पंचायत सदस्य के बेटे व सपा नेता जितेंद्र यादव की हत्या के बाद क्षेत्र में लोगों का उपजा आक्रोश कम नहीं हुआ है। मृतक के परिजन आरोपी सत्ताधारी दल के विधायक पर केस दर्ज करने की मांग कर रहे। परिजन का आरोप है कि सत्ताधारी दल के लोग पुलिस के माध्यम से उन लोगों का उत्पीड़न करा रही है।

जिला पंचायत सदस्य अमरावती देवी के पुत्र व सपा नेता जितेंद्र यादव की सोमवार को बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। जितेंद्र पर अभी कुछ दिन पहले भी जानलेवा हमला हुआ था। पीजीआई से इलाज कराकर वह लौटे थे। सोमवार को वह मंदिर से पूजन कर लौट रहे थे कि पहले से घात लगाए बदमाशोंन ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी।
इस हत्याकांड से पूरे क्षेत्र में आक्रोश है। उनके गांव हरैया बरगदवां में तनाव व्याप्त है। मंगलवार को भारी पुलिस बल की मौजूूूदगी में जितेंद्र यादव का पोस्टमार्टम कराया गया। शाम करीब साढ़े चार बजे परिजन शव लेकर रवाना हुए। घर जाने के पहले काफी संख्या में आक्रोशित लोगों ने फरेंदा रोड पर त्रिमुहानी घाट पर जाम लगा दिया। काफी संख्या में आक्रोशित लोगों की भीड़ को देखर पुलिस को भी जाम हटवाने में पसीना छूटने लगा। काफी मान मनौव्वल के बाद परिजन शव गांव लेकर रवाना हुए। जाम लगाए लोग भाजपा विधायक पर हत्या कराने का आरोप लगा रहे थे। ये लोग विधायक पर केस दर्ज करने पर अड़े है। पुलिस ने जाम खोलवाने के लिए बल भी प्रयोग किया।
परिजन शव को लेकर गांव तो गए लेकिन चेतावनी दी कि अगर आरोपी विधायक पर केस दर्ज नहीं किया गया तो वे लोग शव का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।
उधर, जितेंद्र यादव की पत्नी बबिता की तहरीर पर पुलिस ने चार नामजद हरैया बरगदवां के रामवृक्ष, महावीर, दीनानाथ व रामकेश व दो अज्ञात सहित छह के खिलाफ हत्या व हत्या के प्रयास का केस दर्ज किया है। पुलिस ने आरोपी रामवृक्ष एवं महावीर को गिरफ्तार कर लिया गया है।
बता दें कि फरेंदा क्षेत्र के वार्ड नंबर 28 की जिला पंचायत सदस्य अमरावती देवी के तीसरे नंबर के पुत्र जितेंद्र यादव थे। जितेंद्र के दो भाई गुजरात में काम करते हैं। भाई की हत्या की जानकारी के बाद वे घर के लिए चल दिए थे। तीन दिन बाद शव का अंतिम संस्कार परिवारीजन आश्वासन के बाद किए लेकिन अभी भी उनका गुस्सा शांत नहीं हुआ।

gorakhpur news




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here